Chutkule

Restaurant Scene

This may work for you too in a crowded restaurant:

कल मैं होटल में नाश्ता करने गया तो देखा कि सभी सीट कपल पर बैठे थे! बैठने के लिए जगह ही नही थीं! मैंने जेब से फोन निकाला और जोर से बोला,
“तेरी गर्लफ्रेंड यहाँ दूसरे के साथ बैठी है, तू जल्दी आ!”
5 लड़कियां गायब हो गयी!

When I went to the restaurant yesterday, all seats were taken by couples.

I called up (not really) my friend asking him rather audibly to come down: ‘You better hurry up, I see your girl friend is here with someone else.’

Before I ‘disconnected’, five seats fell vacant!

*

याद रखिये,
अगर कोई सुन्दर युवती बिल्कुल बिंदास होकर आपकी बगल वाली सीट पर आकर बैठ जाए,
तो समझ जाईये कि अब आप युवा नहीं रहे।

Remember this:

If a beautiful girl opts for the seat next to you, may it be understood (she considered it safe for her and) you’re no longer…

*

साला भलाई का ज़माना ही नहीं रहा।
पडोसी ने मुझसे पूछा, “आपने मेरी बीवी को देखा क्या?”
मैं बोला, “हाँ मैंने नहाते हुए देखा था।”
साले ने मेरी जमकर कुटाई कर दी।
अब उसे कौन समझाये कि नहा तो मैं रहा था, वो गली से गुज़र रही थी।

Damn, these are not days for speaking the truth.

My neighbor asked me: ‘Have you seen my wife?’

‘I said: ‘Yes, I did, when taking bath.’

Thereupon he went berserk…

before I could tell him I saw her passing by on the road while I was bathing.

*

If B + C is A, B must be A – C, right? Not always, we learn:

‘Yeh banana kaisay diya?’

‘Ek rupyah.’

’60 paise ka deta hai?’

’60 paise mein to sirf chilka milega.’

‘Ley 40 paise, chilka rakh aur kela day de.’

 

‘How much is this banana?’

‘One rupee.’

‘Will you give it for 60 paise?’

‘For 60 paise, you’ll only get the skin.’

‘Okay, take these 40 paise and give me the fruit. You may keep the skin.’

*

 

End

 

Via: gopalaswamy and net; image: openclipart.org (Firkin), from a drawing in ‘Tableaux de Paris’, Emile Goudeau, 1893.

Chutkule

आज की तारीख़ में कोई अगर सुखी है तो वह है शशिकला का पति..
करोड़ों रुपयों के कारोबार, सैकड़ों कंपनी, सरकार में ऊँचे रसूख़ और तो और पत्नी भी ज़ेल में!

आज सुबह से ही मेरे मित्र लिख रहे हैं…
” जो अमृत पीते हैं उन्हें देव कहते हैं और जो विष पीते हैं उन्हें महादेव कहते हैं!”
अरे भाई… जो रोजाना दोनों ही चीज़ थोड़ा थोड़ा करके पीते हैं उन्हें भी तो पतिदेव कहते हैं!

किसी कागज पर वजन रखो तो वो अपनी जगह से नहीं हिलता।
~ न्यूटन
पर सरकारी कागज पर वजन रखो तो वो तेजी से हिलता है।
~ न्यूटन का चचेरा भाई टनाटन!

Husband and wife at a Mandir.
He: ‘Kya manga tumne?’
She: ‘Ki Aap aur mae 7 janmo tak saath ho. Aur aapne kya manga?’
He: ‘Ye mera saatva janam ho.’

End

 

 

Source: nidokidos.com and santbanta.com.